img

29 तुलसी के फायदे | Tulsi ke fayde | Basil Leaves in hindi – tulasi

Tulsi ke Fayde आज इस लेख में तुलसी के गुण और उसके फायदे के बारे में जानेंगे। आयुर्वेद में इसे बेहतरीन औषधि के रूप में जाना जाता है। तुलसी का शाब्दिक अर्थ “अतुलनीय पौधा” होता है। भारत में इसका उपयोग प्राचीन काल से होता आ रहा है। भारत में तुलसी की पूजा भी की जाती है। यह कई प्रकार के रोगों से बचाता है। रोजाना नियमित रूप से इसका सेवन किया जाये। जीवनभर रोग मुक्त रहेंगे।

तुलसी का पौधा (Basil) यह झाड़ी के रूप में उगता है। इसकी ऊंचाई लगभग 1 से लेकर 3 फूट तक होता है। इसका वैज्ञानिक नाम “ऑसिमम सैक्टम” है। इसके पत्तियों का आकार आयताकार या अंडाकार दोनों तरह की होती है। इसकी पत्तियां लगभग 1 से 2 इंच लम्बी होती है। साथ ही साथ सुगंधित भी होती है। तुलसी निम्न प्रजाति पाई जाती है। जो इस प्रकार है –

1 ऑसिमम वेसिलिकम मिनिमम।
2 ऑसिमम वेसिलिकम (मरुआ तुलसी) ।
3 ऑसिमम अमेरिकन (काली तुलसी) ।
4 ऑसिमम किलिमंडचेरिकम (कर्पुर तुलसी) ।
5 ऑसिमम ग्रेटीसीकम (वन / राम तुलसी) ।
6 ऑसिमम विरिडी।
7 ऑसिमम सैक्टम।

29 तुलसी के फायदे | Tulsi ke fayde | Basil Leaves in hindi – tulasi

Tulsi ke fayde in Hindi – भारत में ऑसिमम सैक्टम को पवित्र माना जाता है। ऑसिमम सैक्टम की 2 मुख्य प्रजाति होती है। पहला कृष्णा तुलसी और दूसरा श्री तुलसी। अगर गुण के दृष्टी से देखा जाये। तो काली तुलसी श्रेष्ट होती है। तुलसी इतना लाभकारी होता है। इसका उपयोग किसी न किसी रूप में होमियोपैथी, यूनानी और ऐलोपैथी इत्यादि में किया जाता है।यह वातावरण को शुद्ध करने का भी काम करता है। ज्यदातर हिन्दू परिवारों के घरों के आँगन में या मुख्य द्वार पर तुलसी का पौधा लगाया जाता है। क्यूंकि इससे नकारात्मक ऊर्जा सकारात्मक ऊर्जा में परिवर्तित हो जाती है।

यह विश्व का बेहतरीन एंटी-ऑक्सीडेंट है। साथ ही साथ इसमें एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-इन्फ्लेमेटरी जैसे तत्व पाए जाते है। इसे संजीवनी बूटी के समान बोलना गलत नहीं होगा। सिर्फ तुलसी का पत्ता ही फायदेमंद नहीं होता है। बल्कि तुलसी की शाखाए, जड़ और बीज भी फायदेमंद होता है। यह विभिन्न बिमारियों का रामबाण इलाज है। यह कम कैलोरी वाली जड़ी-बूटी है।

Basil Nutrition in Hindi – इसमें कई सारे पोषक पाए जाते है। जैसे – आयरन, ओमेगा-3 फैट्स, कैल्शियम, मैग्नीशियम, कॉपर, विटामिन ऐ, विटामिन सी और विटामिन के इत्यादि। तो चलिए जानते है – “तुलसी के फायदे के बारे में 


29 तुलसी के फायदे | Tulsi ke fayde | Basil Leaves in hindi – tulasi

Tulsi ke fayde

1. त्वचा के लिए तुलसी के फायदे हिंदी में – Tulsi ke Fayde

तुलसी का सेवन नियमित रूप से करें। उसके साथ-साथ इसका लेप चेहरे पर लगाये। आप चाहे तो निम्बू का रस भी मिला सकते है। इससे त्वचा का रंग निखरेगा और झाइयां की समय दूर हो जाएगी। क्यूंकि इसमें थाईमोल तत्व होता है, जो त्वचा की समस्या से छुटकारा दिलाता है।

2. शीघ्रपतन की समस्या में तुलसी के बेहतरीन फायदे – Tulasi

शारीरिक कुछ कमी के कारण जब पुरुषों में शीघ्रपतन की समस्या होने लगती है। शीघ्रपतन से पीड़ित लोग तनाव के शिकार हो जाते है। हालाँकि मानसिक कमजोरी के कारन भी शीघ्रपतन की समस्या होती है। ऐसे में तुलसी आपके बहुत काम का साबित हो सकता है। गाय के गुनगुने दूध के साथ तुलसी के बीज का सेवन करें। आपको अत्यंत फायदा होगा।

यह भी अवश्य पढ़े: शीघ्रपतन की समस्या का घरेलू उपचार हिंदी में।

3. यौन समस्या में तुलसी के अनोखे फायदे – Tulsi ke Fayde

तुलसी न सिर्फ सेक्स क्षमता में वृद्धि करता है। उसके साथ-साथ नपुंसकता की समस्या को भी दूर करता है। इसीलिए नियमित रूप से तुलसी के बीज (Tulsi Seeds) का रोजाना सेवन करें। यौन समस्या से छुटकारा मिलेगा।

इसे भी अवश्य पढ़े : सेक्स क्षमता बढ़ाने वाले फ़ूड की जानकारी हिंदी में।

4. तुलसी द्वारा गर्भधारण की समस्या का उपचार हिंदी में

जिन महिलाओं को गर्भधारण करने में परेशानी होती है। उनके लिए तुलसी बहुत ही फायदेमंद होता है। जब मासिक चक्र आ जाये। तब तुलसी के बीज लगभग 5 ग्राम पानी के साथ सेवन करें। ऐसा सुबह और शाम करें और जबतक पीरियड्स रहे, तबतक करें। जब पीरियड्स ख़त्म हो जाये। तब लगभग 10 ग्राम माजूफल का चूर्ण पानी के साथ सेवन करें। ऐसा 3 तक करें, आपको फायदा होगा।

इसे भी जरुर पढ़े : जल्दी गर्भधारण करने के घरेलु उपाय हिंदी में।

5. अनियमित माहवारी की समस्या में तुलसी के फायदे – Ayurved

हर्मोंन्स में गड़बड़ी होना की वजह से अनियमित माहवारी की समस्या होने लगती है। इस परेशानी में तुलसी का बीज फायदेमंद होता है। इससे आपकी मासिक चक्र की अनियमितता दूर हो जाएगी।

6. तुलसी (Tulasi) द्वारा आँखों की परेशानी का घरेलु उपचार

आँखों की कई समस्या के लिए तुलसी फायदेमंद होता है। जिन्हें रतोंधी की शिकायत है। उन लोगो लगातार 2 सप्ताह तक 2-2 बूंद तुलसी के पत्ते का रस डालने से लाभ मिलता है। ऐसा करने से रतोंधी की समस्या दूर हो जाएगी। साथ ही साथ आँखों का लालपन और पीलापन भी दूर हो जाता है। आप चाहे तो तुलसी के पत्ते का रस का बना काजल तैयार कर लें। इस काजल को लगाने से आँखों की रौशनी में इजाफा होगा।

7. हृदय की समस्या में Tulsi ke Fayde

दिल को हेल्थी रखना चाहते है। तब नियमित रूप से तुलसी का सेवन करें। सबसे पहले लगभग 10 तुलसी के पत्ते लीजिये। अब उसमे 4 बादाम और 5 काली मिर्च मिलाकर पीस लीजिये। फिर उसमें शहद मिला लें। अब पानी के साथ सेवन करें। आपको दिल की समस्या से छुटकारा मिलेगा।

यह भी जरुर पढ़े : दिल को स्वस्थ्य रखने के कुछ बेहतरीन उपाय।

8. टीबी और दमा की समस्या में तुलसी के फायदे – Basil Leaves in hindi

जो लोग रोजाना सही रूप से तुलसी के पत्ते का सेवन करते है। उन लोगो दमा और टीबी की शिकायत नहीं होता है। यह उन जीवाणु को बढ़ने से रोकता है, जो दमा और टीबी को बढ़ाता है। सबसे पहले अदरक, तुलसी का पत्ता और शुद्ध शहद मिलाकर काढ़ा तैयार कर लें। अब रोगी को यह काढ़ा पिलाये। इससे दमा और टीबी की समस्या से राहत मिलेगी।

इसे भी अवश्य पढ़े : दमा से बचने के घरेलु उपचार हिंदी में।
यह भी अवश्य पढ़े : टी.बी. रोग का अयुर्बेदिक उपचार हिंदी में।

9. उच्च रक्तचाप की समस्या में  तुसली के फायदे – Tulasi

हाई ब्लड प्रेशर (उच्च रक्तचाप) के रोगियों की संख्या दिन बी दिन बढ़ते जा रही है। तुलसी का सेवन आपके लिए लाभकारी होगा। सबसे पहले 4 तुलसी का पत्ता और 2 नीम का पत्ता लीजिये। अब इन पत्तों का रस निकाल लीजिये। अब लगभग 3 से 4 चम्मच पानी के साथ रस का सेवन करें। ऐसा सुबह खली पेट करें, फायदा मिलेगा।

इसे भी जरुर पढ़े : उच्च रक्तचाप की समस्या का घरेलु समाधान हिंदी में।

10. Basil Leaves के जरिए, मलेरिया की बीमारी का उपचार

मलेरिया से हर साल हजारो लोगो की जान चली जाती है। बरसात के मौसम यह समस्या ज्यादा उत्पन्न होती है। तुलसी के प्रयोग से मलेरिया जैसे रोग से बचा जा सकता है। लगभग 4 खड़ी काली मिर्च और 11 तुलसी के पत्ते के साथ मिलाकर सेवन करें। आपको अत्यंत लाभ मिलेगा।

यह भी अवश्य पढ़े : मलेरिया के लक्षण और उपचार की जानकारी हिंदी में।

29 तुलसी के फायदे | Tulsi ke fayde | Basil Leaves in hindi – Tulasi



11. कुष्ठ रोग की समस्या का इलाज में तुलसी के फायदे – Ayurved

कुष्ठ रोग की समस्या में तुलसी का प्रयोग लाभकारी होता है। रोगी को तुलसी के पत्ते का रस पिलाये। इसके अलावा सौंठ और तुलसी के पौधे के जड़ को मिलाकर पीस लें। अब इस मिश्रण को प्रतिदिन कुष्ठ रोगी को पिलाए। घरों के आस-पास तुलसी का पौधा जरुर लगाये। इससे आस-पास के लोगों में कुष्ठ रोग होने की संभावना कम हो जाती है।

12. किडनी की पथरी का उपचार तुलसी के पत्ते (Tulsi Leaves) द्वारा

तुलसी उन लोगो के लिए लाभकारी होता है। जो किडनी में पथरी की समस्या से जूझ रहे है। सबसे पहले तुलसी के पत्ते को पानी में डालकर अच्छे से उबाले। फिर छानकर ठंडा करके, उसमें शुद्ध शहद मिलाकर रोगी को पिलाये। ऐसा रोजाना लगभग 6 महीने तक करें। इससे आपको फायदा होगा।

यह भी जरुर पढ़े : किडनी की पथरी (Kidney Stone) का आयुर्वेदिक इलाज हिंदी में।

13. माइग्रेन की समस्या का इलाज – Basil Leaves in hindi

Tulsi ke fayde, यह सिर के पुराने से पुराने दर्द को भी ठीक कर सकता है। जिन लोगो हमेशा सिर में दर्द रहता है। उन्हें तुलसी का काढ़ा पिलाना चाहिए। इसके अलावा 1 चम्मच शहद में ¼ तुलसी के पत्ते का रस मिलाकर पीने से लाभ मिलेगा। इससे साइनस और माइग्रेन जैसे रोग में आराम मिलता है।

14. बुखार के रोग में तुलसी के अनोखे फायदे और लाभ

तुलसी सभी तरह के बुखार में लाभकारी होता है। बुखार रहने पर यह उपाय जरुर अपनाये, लाभ मिलेगा। सबसे पहले 10 काली मिर्च और 20 तुलसी के पत्ते लीजिये। अब मिलाकर इसका काढ़ा तैयार कर लीजिये। इससे आपको बुखार की समस्या से राहत मिलेगी।

15. गठिया अथवा जोड़ों के दर्द का इलाज तुलसी द्वारा – Tusli ke Fayde gathiya rog me

जोड़ो के दर्द और गठिया की समस्या में तुलसी का प्रयोग करना लाभकारी होता है। तुलसी की पत्ती, जड़, फल, डंठल और बीज इत्यादि इन सभी को समान मात्रा में मिलाकर इसका चूर्ण बना लें। अब इस चूर्ण में पुराना गुड़ मिला लें। अब इस मिश्रण गोली तैयार कर लें। 1-1 गोली का वजन 10 से 12 ग्राम की होनी चाहिए। अब बकरी के दूध के साथ सुबह और शाम सेवन करें। इससे गठिया की परेशानी दूर हो जाएगी। जोड़ो के दर्द से भी आराम मिलेगा।

यह भी अवश्य पढ़े : गठिया की बीमारी का आयुर्वेदिक उपचार हिंदी में।

16. सांप के काटने का उपचार | Tulsi ke Fayde

अगर किसी व्यक्ति को सांप ने काट लिया है। तब उस व्यक्ति जल्दी तुलसी का सेवन कारन चाहिए। और जिस जगह पर सांप ने काटा है। तुलसी के जड़ का बना लेप लगाये। लेप बनाने के लिए तुलसी के जड़ को पीसकर उसमें शुद्ध घी मिलाये। यह जहर खीचने का काम करता है।

17. जुकाम और खांसी का इलाज – Basil Leaves in hindi

खांसी अथवा जुकाम होने पर तुलसी का उपयोग करें। तुलसी का काढ़ा बना लें। अब उस काढ़े को चाय की तरह पीजिये। आपको तुरंत फायदा मिलेगा। इसके अलावा प्रतिदिन सुबह-सुबह खली पेट 4 से 5 पत्ते खाने से मौसमी रोग न के बराबर होते है। आप चाहे तो तुलसी के साथ अदरक को भी चबाये। गले की खराश दूर करने के लिए चाय के पत्तियों के साथ तुलसी के पत्ते को उबालकर पिए, फायदा होगा।

इसे भी अवश्य पढ़े : खांसी का घरेलु इलाज की जानकारी हिंदी में।

18. तुलसी (Tulasi) के द्वारा कमर दर्द का उपचार – Tulsi Benefits

अक्सर माहवारी के समय महिलाओं में कमर दर्द की शिकायत रहती है। प्रतिदिन तुलसी का रस 1 चम्मच पीने से यह शिकायत दूर हो जाएगी। जो महिलाए रोजाना तुलसी का सेवन करती है। उन्हें पीरियड्स के दौरान कमर दर्द की शिकायत नहीं होती है।

यह भी अवश्य पढ़े : कमर दर्द का आयुर्वेदिक इलाज की जानकारी हिंदी में।

19. मुंह के अल्सर की समस्या में Tulsi ke Fayde

मुंह के अल्सर के लिए रामबाण इलाज है। तुलसी के पत्ते के सेवन से मुंह के अल्सर की समस्या नहीं होती है। इसके अलावा छाले पर रस लगाये। इससे आपको लाभ मिलेगा।

यह भी अवश्य पढ़े : मुंह के अल्सर का आयुर्वेदिक उपचार हिंदी में।

20. खुजली और त्वचा के संक्रमण का उपचार – Tulsi ke Fayde in Hindi

दाद, खुजली और अन्य त्वचा के संक्रमण में तुलसी का उपयोग फायदेमंद होता है। प्रतिदिन सही रूप से तुलसी का सेवन करें। इसके अलावा त्वचा के प्रभावित भाग में तुलसी का अर्क लगाये। आपको फायदा होगा।

इसे भी जरुर पढ़े : खुजली की समस्या का उपचार हिंदी में।

तुलसी (Tulsi) के 29 अनोखे फायदे की जानकारी हिंदी में

Tulsi ke Fayde,तुलसी के 29 बेहतरीन फायदे,Holy Basil Leaves in hindi,

21. तुलसी के जरिए, चोट लगने का घरेलु इलाज – Tusli ke Fayde

यह एक तरह का बेहतरीन एंटी-बैक्टीरियल होता है। इसके सेवन से यह शरीर को रोग से लड़ने की ताकत देता है। इसके रोजाना नियमित रूप से सेवन करने से रक्त साफ़ होगा। जिससे जख्म इत्यादि नहीं होंगे। इसके लेप को घाव पर लगाने से, घाव जल्द भरने लगता है।

22. जली त्वचा का उपचार तुलसी (Tulsi) के द्वारा 

Holy Basil त्वचा की जलन को कम करने का काम करता है। इसे जली हुई त्वचा के लिए रामबाण इलाज कह सकते है। नारियल का तेल और तुलसी का रस मिलाकर जली हुई त्वचा पर लगाये। इससे जलन तो कम होगी। साथ ही साथ निशान भी हल्का पड़ने लगेगा।

23. मुंहासे की परेशानी का इलाज – Basil Leaves in hindi

रोजाना तुलसी का सेवन करे। यह रक्त मौजूद अशुद्धियों को दूर करता है। जिससे खून साफ़ हो जाता है। और मुंहासे यानी पिम्पल की समस्या नहीं होगी। यह त्वचा की रंगत को भी निखरता है। इसीलिए प्रतिदिन तुलसी का सेवन करें।

इसे भी अवश्य पढ़े : मुहांसे का घरेलु इलाज हिंदी में।

24. मुंह के कैंसर की समस्या में तुलसी के फायदे – Tulasi

अगर आप तुलसी का सेवन रोजाना नियमित रूप से करते है। तब मुंह का कैंसर होने की संभावना न के बराबर होती है। इसीलिए जो लोग गुटका और तम्बाकू को नहीं छोड़ पा रहे है। उन्हें प्रतिदिन तुसली के पत्ते का सेवन करना चाहिए।

25. Tulsi ke Fayde उल्टी की समस्या में – Holy Basil in Hindi

Basil Leaves in hindi के प्रयोग से उल्टी की समस्या से छुटकारा मिलेगा। सबसे पहले तुलसी के पत्ते का रस, छोटी इलायची और अदरक का रस बराबर मात्रा में मिला लें। अब इस मिश्रण का सेवन करें। इससे उल्टी की परेशानी दूर हो जाएगी।

26. तुलसी (Tulasi) के द्वारा मुंह की दुर्गन्ध का उपचार – Tulsi ke Fayde

सांसों से दुर्गन्ध का निकलना, शर्मिंदगी का कारण बन सकता है। लोग आपसे बात करने नहीं चाहेंगे। इसका आपके व्यक्तित्व पर बुरा असर पड़ेगा। तुलसी मुंह की बदबू को दूर करने का उत्तम उपाय है। रोजाना तुलसी के पत्ते को चबाये। यह मुंह के संक्रमण को दूर करता है। इसके अलावा सरसों के तेल में तुलसी की सुखी पत्ती को मिलाकर, दांत को साफ़ करें। इससे मुंह से दुर्गन्ध की परेशानी दूर हो जाएगी।

इसे भी अवश्य पढ़े : मुंह की बदबू दूर करने का बेहतरीन घरेलु नुस्खा हिंदी में।

27. दस्त की परेशानी में तुलसी के फायदे | Basil Leaves in hindi

दस्त की समस्या में तुलसी का उपयोग लाभकारी होता है। दस्त होने पर आपको बार-बार टॉयलेट जाना पड़ता है। इस समस्या से को दूर करने के लिए शहद के साथ भुने जीरे और तुलसी के पत्ते का सेवन करें। ऐसा दिन में 2 से 3 बार करें, फायदा होगा।

यह भी अवश्य पढ़े : दस्त की समस्या का घरेलु उपचार की जानकरी हिंदी में।

28. तनाव की समस्या में तुलसी के फायदे – Tulsi ke Fayde

तनाव होने का मुख्य वजह, आज के समय की लाइफस्टाइल है। लोग छोटी-छोटी बातों में तनाव में आ जाते है। तुलसी में तनावरोधी गुण होता है। तुलसी के पत्ते का सेवन प्रतिदिन करें। यह मानसिक मजबूती देता है।

इसे भी जरुर पढ़े : तनाव को दूर करने का कुछ सरल उपचार हिंदी में।

उम्मीद है की, आपको यह लेख उपयोगी लगा होगा। प्लीज इस लेख को अपने दोस्तों के साथ शेयर जरुर करे। निचे दिए गए बटन को दबाकर अपने ट्वीटर, फेसबुक और गूगल प्लस अकाउंट पर शेयर करे।

|धन्यवाद|

  • Facebook
  • Twitter
  • Google+
  • Linkedin
  • Pinterest

26 Comments

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *